14 killed, 226 cases due to black fungus

118

हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को देखते हुए 15 मई को इसे अधिसूचित रोग घोषित कर दिया था. वहीं पंजाब सरकार के पास अब तक ब्लैक फंगस के मरीजो का कोई भी अधिकारिक आंकड़ा नहीं है.

हरियाणा में ब्लैक फंगस के अब तक 226 से ज्यादा केस आ चुके हैं. प्रदेश के अन्य जिलों में 14 लोगों की मौत हो चुकी है. हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को देखते हुए 15 मई को ब्लैक फंगस को अधिसूचित रोग घोषित कर दिया था. वहीं इस बीमारी से निपटने के लिए सरकार ने ब्लैक फंगस को लेकर डॉक्टरों को प्रशिक्षण देना भी शुरू कर दिया है. 

हरियाणा में बढ़ा ब्लैक फंगस का कहर

जानाकारी मिली है कि प्रदेश के चार मेडिकल कॉलेजों में 20-20 बेड्स को आरक्षित किया जा रहा है. वहीं क्योंकि अभी बाजार में इसके इंजेक्शन की कमी है, ऐसे में हरियाणा सरकार दवा खरीदकर सीधे मेडिकल कॉलेजों को देने की तैयारी कर रही है. हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि ब्लैक फंगस को लेकर तमाम जिलों में सूचना दिए गए हैं कि अगर कोई भी मरीज सामने आता है तो उसे लेकर तुरंत ही जानकारी जिले के सीएमओ को दी जाए और मल्टीस्पेशलिटी डॉक्टरों की एक टीम बनाकर ब्लैक फंगस का इलाज किया जाए

बताया गया है कि ब्लैक फंगस को लेकर केंद्र सरकार से 12000 के आसपास इंजेक्शन मांगे गए हैं और लगातार पूरे हिंदुस्तान में जहां-जहां से ब्लैक फंगस की दवा मिल सकती है, उन दवाओं का आर्डर किया जा रहा है. राज्य सरकार का प्रयास है कि कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस भी महामारी का रूप ना ले.

वही पीजीआई चंडीगढ़ में भी लगातार ब्लैक फंगस के मरीज सामने आ रहे हैं. पीजीआई चंडीगढ़ में इस वक्त करीब 22 मरीजों का अलग- अलग विभागों में इलाज चल रहा है. ब्लैक फंगस की वजह से किसी के जबड़े में दिक्कत है तो किसी की आंखों की रोशनी कम हो रही है. बिगड़ती स्थिति को देखते हुए इस समय पीजीआई चंडीगढ़ का एडवांस आई केयर सेंटर, डेंटल डिपार्टमेंट और ईएनटी डिपार्टमेंट मिलकर लगातार मरीजों का इलाज कर रहे हैं

Previous articleIsrael vs Palesatine War
Next articleब्लैक फंगस के लिए इंडस्ट्रियल ऑक्सीजन जिम्मेदार? AIIMS के डॉक्टर का दावा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here